गुजराती बीएफ चाहिए

Image source,लड़की का चड्डी

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी हिंदी सेक्सी पोर्न: गुजराती बीएफ चाहिए, जितनी देर इसका काम कवर नहीं हो जाता और ये रात को तुम्हारे पास ही सोएगा।अब्बू के मुँह से यह सुनते ही मैंने सोचा कि यह तो काम खराब हो गया है.

आज की सेक्स

जिससे मुझे और भी ज्यादा आनन्द मिल रहा था।उनकी साँसें तेज चल रही थीं. मिया खलीफ़ाउसके पड़ोस में ही एक परिवार रहता था। वो लोग बहुत ही अच्छे स्वभाव के थे।मैं यूपी से था और वो लोग भी यूपी से ही थे। वो भी मेरे पास वाले जिले थे.

सेल्स की जॉब करता हूँ और थोड़ी कंप्यूटर की जानकारी भी है।यह मेरी पहली कहानी है, उम्मीद करता हूँ आप सबको पसंद आएगी।मैंने कुछ टाइम पहले फ़ेसबुक पर एक फ्रेंड बनाई. बैड मस्तीमैं झड़ने वाला हूँ।मैंने कहा- प्लीज़ मेरी चूत में मत निकलना।उसने कहा- फिर कहाँ निकलूँ मेरी रंडी?मैंने कहा- मेरे मुँह में निकाल दो।तो उसने जल्दी से अपना लंड मेरी चूत से निकाला और लंड को मेरे मुँह पर रख कर सारा पानी निकाल दिया।हम दोनों बुरी तरह थक चुके थे, हमने साथ में शावर लिया और नंगे ही बाहर आ गए।तब तक तन्वी ने खाना टेबल पर लगा दिया था, तुषार और मैं तो नंगे ही थे.

तो वे एकदम से धक्के देने लगे।मेरी आँखों से आंसू निकलने लगे और उन्होंने जैसे ही देखा तो वे मेरे आंसू चाट गए और मुझे और जोर से चोदने लगे।मेरा सारा दर्द खत्म हो गया। मैं अपनी पहली चुदाई को बहुत जम कर एन्जॉय करता रहा। ये सब बाथरूम के फर्श पर हो रहा था। भैया रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे और मैं चाहता भी था कि वो न रुकें।वो मुझे देर तक वैसे ही चोदते रहे.गुजराती बीएफ चाहिए: तभी वर्षा ने जोर से मेरे लंड को मरोड़ा, तो मैं दर्द से बिलबिला उठा।उसने फिर पूछा तो मैंने डरते-डरते बोला- वो मैं.

तो यह मात्र संयोग ही होगा।यह कहानी मेरे पहले सेक्स अनुभव की है। यह मेरी और मेरी प्यारी पायल भाभी की कहानी है और मेरी पायल भाभी को तो आप जानते ही हैं.लेकिन क्या करता।रात में 8 बजे करीब सीमा मुझसे बातें करने मेरे बिस्तर में आ गई और बात करने लगी।ऐसे ही बातें करते-करते मैंने लिहाफ़ के नीचे से उसकी चूत में उंगली डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा।फिर उसने भी मेरा लंड लिहाफ़ के अन्दर ही अपने हाथ में ले लिया और हिलाने लगी।कुछ देर बाद वो उठकर चली गई, जाते हुए मैंने उससे कहा- जब सब सो जाएं.

चोदा चोदी ब्लू वीडियो - गुजराती बीएफ चाहिए

थोड़ा नशा तो हो।उसने 4 पैग बनाए और हम तीनों ने पी लिए।मैंने गाड़ी से उतर के साइड में जाकर कुरती उठाई और सलवार नीचे कर के मूतने के पोज़ में बैठ गई। अब मैंने गांड उठा-उठा कर अपना जलवा दिखाया।यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!तभी देखा कि अचानक कोई गाड़ी आ रही थी.मैं छूटने वाला हूँ।डंबो तुरंत मुझसे अलग हुई और मेरा लंड चूसने लगी और चूसते-चूसते मैंने अपना सारा लावा उसके मुँह में छोड़ दिया और वो बड़े प्यार से पूरा कामरस चट कर गई।वो इतनी थकी हुई थी कि वो तुरंत ही बिस्तर पर कंबल ओढ़ कर सो गई।फिर से सुबह 6 बजे मेरे लंड महाशय मालिश माँग रहे थे.

आप मेरे भाई हैं।तो मैं झट से बोला- मैं तुझे मंगलसूत्र बाँध देता हूँ.गुजराती बीएफ चाहिए तो मेरा लण्ड खड़ा हो जाता है और आपके साथ सेक्स करने का मन करता है।’यह कह कर मैंने फिर से भाभी को पकड़ लिया और किस पर किस करने लगा।भाभी ‘नो नो.

मेरी आंखें उसे देखकर फटी की फटी रह गईं।माँ कसम इतनी खूबसूरत लग रही थी.

एक चूत में दो लंड?

गुजराती बीएफ चाहिए जो बाद में मेरी बीवी बनी, उसकी सहेली के घर हमारी शादी का कार्ड देने गए। जब उसकी सहेली ने दरवाजा खोला.

नंगी लड़की?सेक्सी नींद में

गुजराती बीएफ चाहिए तो मेरा लंड उसके अन्दर थोड़ा सा घुस गया। इतने में आरती को बहुत ही दर्द होने लगा था। उसकी चीख निकलने लगी।मैंने कुछ सोचे बगैर एक और झटका लगा दिया और मेरा नागराज चूत के अन्दर फंसता हुआ जाने लगा।आरती को बहुत ही दर्द हो रहा था और वो मुझे अपने ऊपर से हटाने की कोशिश कर रही थी।मैंने भी कुछ पल रुकने का सोच कर आरती को जकड़ लिया और उसे किस करने लगा।थोड़ी देर बाद जब आरती का दर्द कम हुआ.

महाराष्ट्र भाभी

उसने काली जालीदार पैंटी पहनी हुई थी।उसमें उसकी दोनों फांकें फूल कर आकार ले चुकी थीं।मैंने उसकी पैन्टी उतारी, उसकी चूत की शेव अभी ताजी-ताजी ही हुई थी.खीरा या लंबे बैंगन से अपनी गरम और टपकती हुई चूत को ठंडी करने का शौक हो.

गुजराती बीएफ चाहिए पर मैं ज्यादा ध्यान न देते हुए बाथरूम में चला गया और नहाने लग गया।बाथरूम में किसी की पैंटी टंगी हुई थी और उसे देखने पर लग रहा था कि वो अभी आज ही निकाली हुई है और उसका पानी ताज़ा लग रहा था।थोड़ी देर सोचने के बाद मैं नहा लिया और कमरे में वापस आ गया।मैंने देखा तो वहाँ पर मेरे कपड़ों के साथ एक पर्स भी पड़ा हुआ है और उसमें कुछ क्रेडिट कार्ड थे.

एक्स चोदा चोदी वीडियो

खुल्लम खुल्ला चुदाई वाली वीडियोइस तरह बहुत मज़ा आ रहा है।तो मैंने उसी तरह आपी को तेज़ी से चोदना जारी रखा।आपी मस्ती में आहें भर रही थीं- अहह.

’मैं और भाभी एक साथ झड़ने लगे और मैंने लण्ड को भाभी की चूत में पेलते हुए अपना वीर्य भाभी की चूत गिरा दिया।अब हम दोनों चिपक कर आराम करने लगे।दोस्तो, यह थी मेरी सेक्स कहानी.क्योंकि अभी वो उसको घर नहीं ले जा सकती थी।फिर हम दोनों नहा कर एक-दूसरे के बदन से खेलते हुए तैयार हुए और चेक आउट करके स्टेशन आ गए।उसके बाद भी मैंने उसे बहुत चोदा.

’ कर रही थी।वो लम्हा अजीब सा मदहोश करने वाला था। आज भी मुझे वो पल याद आता है तो मेरा लंड एकदम से तैयार हो जाता है।कुछ मिनट बाद मेरा स्पर्म निकलने वाला था। मैंने तेज़ और तेज़ झटका लगाया और ढेर हो कर गिर गया। उसकी चूत भी झड़ चुकी थी। अब मैं उसके नीचे हो गया वो मेरे ऊपर लेट गई।कुछ मिनट बाद मैं उससे बोला- फिर से उठाऊँ?वो हँसी.

यह क्या किया?वो आईने में अपने होंठ देखने लगी। उसने मुझे जोर से धक्का देकर अपने कमरे का दरवाजा बन्द कर लिया और ड्रेस बदलने चली गई।मैं भी अपने आपको ठीक करके बैठक में पेपर पढ़ने बैठ गया।इतने में चाचा मेहमानों को लेकर घर आ गए, उन्होंने चाची को आवाज़ लगाई- अरे सुनती हो.

फिर लाइन पर आ गई।उससे फोन पर बातों के दौरान ही उसने मुझे फ़ोन पर ‘आई लव यू’ बोल दिया।इस केस में मुझे समझ में आ गया था कि लड़की का इरादा सिर्फ चुदना ही था। मुझे पता था कि वो मुझसे मुहब्बत होने की बात झूट ही कह रही है।मुझे भी कोई मतलब नहीं था।इधर तो मैं खुद ही चूत की तलाश में था।खैर. ये पल मेरी ज़िन्दगी के सबसे अच्छे पलों में से एक था और अगर तुम मुझे मौका नहीं देती.

एक्स के फोटो जितना कभी मैंने सपने में भी नहीं सोचा था।काले रंग का नाग जैसा लिंग लगभग उनके दाहिने घुटने तक सोया पड़ा था और बड़ी-बड़ी गोलियां नर्म थैली में सोफे में उनकी टांगों के बीचों-बीच पड़ी हुई थीं।झांटें तो इतनी घनी कि लिंग की जड़ तो पता भी नहीं चल रही थी। मुझे नहीं पता मैं कब तक बिना शर्म के खुले मुहँ से उनके लिंग को देखती रही।बाबा की आवाज़ से एकदम मेरा ध्यान भंग हुआ, उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा- जगजीत.

दिल्ली जीबी रोड सेक्सी वीडियो

गुजराती बीएफ चाहिए: तो मैंने उसे बांहों लेते हुए कहा- माया मैं एक बात करूँ तो तू बुरा तो नहीं मानेगी?माया- नहीं मेरे प्यार.जो किसी और से बिल्कुल अलग थी। मैं मौका पकर उसके बगल में खड़ा हो जाता और उस मदमस्त महक का आनन्द लेने की कोशिश करता रहता।जैसा कि मैंने बताया कि राजेश की छाती काफी कठोर थी और उसमें अच्छा खासा उभार हो चुका था। लेकिन अब वह अपने शर्ट के सभी बटन लगा कर रखने लगा था.