देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर

Image source,बीएफ ब्लू फिल्म हिंदी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

करिश्माxxx: देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर, मैने उसे अपने पास खींच लिया हम दोनो के अलावा यहाँ है कौन जो हमे देखेगा आरती ?” मैने उसका एक चुम्मा ले लियानही बाबूजी हमे जाने दो ,हमे खराब ना करो” वो दरवाजे की तरफ जाने लगी.

हिंदी बीएफ चुदाई वीडियो बीएफ

और महमूद ने भी तुरन्त मेरी बुर में अपना फनफनाता हुआ लण्ड पेल दिया।महमूद का लण्ड मेरी पनियाई हुई बुर में घुसते ही मेरी सिसकारी निकल गई ‘आहहह. ट्रिपल एक्स बीएफ हिंदीकैसी हो?उसने मम्मी को नमस्ते बोला और अन्दर जाने लगा।तभी उसकी मम्मी ने बोला- अनु क्या कर रहा है?वो बोला- कुछ नहीं।आंटी बोलीं- शॉप पर बहुत भीड़ है.

जो इनको ऐसी खूबसूरत परी जैसी पत्नी मिली थी। मेरे चाचा प्राइवेट जॉब करते हैं तो ज्यादातर वो काम के सिलसिले में घर से बाहर ही रहते थे।मैं घर कई दिन बाद गया था. मुसलमानी बीएफ हिंदीइसलिए उसने मना कर दिया।फ़िर मैंने रानी को अपने से अलग किया और उसके कपड़े उतारने लगा। वो भी मेरी सहायता करने लगी और अपने आप से कपड़े उतारने लगी। इधर मैं रजनी के कपड़े भी उतारने लगा.

हरलीन अपनी चूचियों पर आलोक का हाथ पाते ही और जोश में आ गयी और उसने अपना हाथ आलोक के खड़े लौड़े पर रख दिया.देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर: अपना दूसरा हाथ भी उसकी चूची पर से हटा कर उसके चूतड को पकड़ लिया और अपने लण्ड से उसकी गांड की दरार में रख कर!उसकी चूत को मैंने उंगली से चोदते हुए गांड की दरार में, लण्ड थोड़ा थोड़ा धंसा दिया था!कुछ ही देर में वो ढीली पड़ गई, और जाँघों को ढीला कर के कमर हिला हिला कर आगे पीछे कर के चुदाई का मजा लेने लगी.

तो यही अच्छा होगा कि तुम्हारे दिमाग़ से ये घृणित हसरतें हमेशा हमेशा के लिए निकाल दी जाएँ।’रवि बेशर्मी से हँसता है और अपने जूते उतार कर.बेहद खूबसूरत।उसने अगले ही पल मेरे गालों पर एक प्यारी सी पप्पी भी ले ली।मेरी तो जैसे किस्मत ही चमक गई, कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि बस में सफ़र करते हुए ही कोई अनजान लड़की पर सेक्स इस कदर हावी होगा कि मुझ पर मेहरबान हो जाएगी।खैर.

बीएफ एचडी 2019 - देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर

ये हैदराबाद से आगरा में कुछ बिजनेस के सिलसिले आते रहते हैं, इनको हर बार मौज मस्ती का इंतजाम मैं ही कराता हूँ।मैं भी मस्का लगाते हुए बोली- यह तो मेरी किस्मत है.पर हमें वहाँ पर कोई नहीं देख सकता था। मैं हमेशा से ही उसे चोदना चाहता था और इस समय मेरे पास मौका भी था। मैं उसे कहीं पर भी हाथ लगा देता था.

दबाया और हम इसमें दोनों को मजा आया।अब मैं डॉली के मुँह पर गया और साँसों में सांसें मिला दीं, डॉली ने अपनी आँखें खोलीं.देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर इतना कहकर वो चाय रख कर चली गईं।उस दिन उनके हाव-भाव से मैं इतना खुश हुआ कि दोस्तों को पार्टी दे डाली। उस दिन मैं यह तो समझ गया था कि भाभी को मुझमें कुछ तो रूचि है।अब मैंने भाभी से और खुल कर बात करनी शुरू कर दी.

तो लग रहा था कि तुम भी पूरी तरह अपनी चूत को नायर को देकर खुलकर नायर के लण्ड से अपनी चूत की ऐसी-तैसी करा रही हो?‘मैं बस उसका दिल रखने के लिए ऐसा कर रही थी और मैं खुल नायर के लण्ड से इसलिए खेल रही थी ताकि जल्दी उसका लण्ड वीर्य उगले और उससे पीछा छुड़ा कर मैं आपके पास आकर आपके मस्त लौड़े से अपनी बुर का कचूमर निकलवाऊँ।’जेठ जी ने इतना सुनते ही मेरी चूचियों को कस कर भींच लिया।‘आहह्ह.

देहाती औरत के बीएफ सेक्सी?

देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर फिर दूसरी उंगली साथ-साथ डाली और अन्दर-बाहर करने लगा। अब मैं तैयार हो चुकी थी।उसने पुठ्ठों को फांक कर उसके छेद में लण्ड का सुपारा भिड़ाया, पहला धक्का मारा.

चिकनी चूत की बीएफ?सेक्सी वीडियो दिखाना

देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर हस्त-मैथुन से पुरुष गंजे और अंधे हो जाते हैं- यह भी पूरी तरह गलत धारणा है। हस्त-मैथुन और शरीर की किसी भी बीमारी का कोई वैज्ञानिक सम्बन्ध नहीं है। अगर यह सच होता तो दुनिया में सभी गंजे और अंधे होते !!हाँ, यह सच है कि हस्त-मैथुन के कुछ प्रभाव ज़रूर होते हैं, जैसे कि1.

इंग्लिश में बीएफ दिखाओ बीएफ

फिर ब्रा का हुक भी खोल दिया। एक चूचा मेरे मुँह में और दूसरा मेरे हाथ से पिसा जा रहा था। अँधेरे के कारण मैं 36 साइज़ का उसका नर्म चूचा देख नहीं पा रहा था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !धीरे से मैंने उसका पजामा और पैंटी भी उतार फेंकी, अब वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी, उसके हाथ मेरे पैन्ट के अन्दर मेरे लण्ड को टटोल रहे थे.पर उसकी गर्दन अपने हाथों में ऐसे फंसा ली थी कि वो छूट ही नहीं सकती थी।वो दर्द के मारे कराहने लगी- आहह.

देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर जाओ मैं आपसे बात नहीं करती।पायल मुँह फुला कर वहाँ से निकल गई और सीधे अपने कमरे में चली गई।पुनीत सीधा नीचे गया.

हिंदी देसी देहाती बीएफ

हिंदी पुरानी बीएफमैं फैक्ट्री जा रही हूँ।उसके बाद मैंने ब्रुश किया और फ्रेश हो गया, मम्मी फैक्ट्री चली गई थीं।मैंने छोटू (नौकर) से कहा- खाना बना कर रख दो और मुझे आवाज़ मत लगाना। हम अपने आप जब मन करेगा.

उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोला- मैं तुम्हारा ही इन्तजार कर रहा था।वो मुझे अन्दर ले गया, वहाँ पर उसके और दोस्त भी थे।मैंने वहाँ पर काफ़ी मज़े किए, खूब खाया पिया.और मैं उसको तेजी से चोदने लगा।मैं उसके ऊपर लेटकर ताबड़तोड़ धक्के मार रहा था और उसकी गर्दन व चूचियों को जीभ से चाट रहा था। चुदाई शुरू होने के दस मिनट बाद ही वो दूसरी बार झड़ चुकी थी।उसके झड़ते ही मैं बिस्तर से नीचे उतर गया और उसे भी बिस्तर के छोर पर खींच लिया। उसकी दोनों टाँगों को अपने कंधे पर रख लिया और उसकी चूत में लण्ड घुसा दिया। अब वो ज्यादा आवाज़ नहीं कर रही थी.

अब रेखा को बाथरूम जाने की जरूरत ही नहीं पड़ती थी क्योंकि रात को उसका पति और दिन में ननद ही उसके बाथरूम का काम करते थे.

संदीप ने जवाब देते हुए उसकी स्लेक्स को एक बार फिर से खींचा और उसकी स्लेक्स उतार दी।अब वो पैन्टी में लेटी हुई थी और उसकी गोरी-गोरी जांघें संदीप की आँखों के सामने थीं। संदीप ने उसकी स्लेक्स एक तरफ फेंक दी और अपनी जीन्स उतारने लगा और साथ साथ खुशी को बोला- मेरा यह पहला टाइम नहीं है.

जैसे कि वो मेरे रिस्पॉन्स का ही इन्तजार कर रही थी। फिर क्या हम दोनों बिना वक़्त गंवाए खूब चूमा-चाटी किस करने लगे। मेरा हाथ उसके चूचों. उसके चूची भरे हुए मुंह से सिसकने और कराहने की दबी दबी आवाजें निकल रही थीं जिन्हें सुन सुन के अमर और मस्त हो रहा था.

बीएफ गुजराती हिंदी लेकिन दोस्तों मेरी बुरी तरह से फट भी रही थी कि कहीं स्नेहा मुझे कुछ कह ना दे। मेरा लिंग अब अपने पूरे उफान पर था.

बीएफ सेक्सी सेटिंग

देहाती हिंदी बीएफ पिक्चर: निशा को कई लड़कों से एक साथ चुदवाने में ज्यादा मजा आता था लेकिन उसे ज्यादा लम्बा और मोटा लंड पसंद नहीं था.मैं यह सोचकर रह जाती कि बेचारे को हाथ से करने के सिवा और क्या कर सकते हैं।मेरी उनके प्रति सहानभूति थी।वे कभी मुझसे बोलते नहीं थे, मैं चाय नाश्ता उनके रूम में ही पहुँचा देती और खाना भी वो कमरे में ही खाते थे.