बीएफ गांव की लड़की की

Image source,ब्लू फिल्म सेक्सी चलने वाला

तस्वीर का शीर्षक ,

माँ बेटे कि चुदाई: बीएफ गांव की लड़की की, उसका विरोध मैं निरंतर अपने होंठों को उसके होंठों पर चिपका कर रोक रहा था।वो नंगी हो चुकी थी और अब चुदने का मन भी बना बैठी थी।मैं उसे नंगी ही अपने कमरे में ले गया और उसके बदन को गद्दा समझ उस पर चढ़ गया।उसकी चूचियाँ मानो जैसे आइसक्रीम का स्वाद दे रही थीं।मैंने अपनी जीभ से उसकी चूत को छेड़ना शुरू किया और फिर उसने भी मेरा लण्ड मुँह में लेकर बहुत देर तक चूसा।एक बार तो मैं उसके मुँह में ही झड़ गया.

एक्स वीडियो हिंदी में दिखाओ

चोद कर ही दम लेगा।दीपाली चलती रही और दीपक किसी कठपुतली की तरह उसके पीछे चलता रहा।कुछ देर बाद सुधीर के घर के पास जाकर दीपाली ने जल्दी से दरवाजा खोला और अन्दर चली गई।दीपक को भी इशारे से जल्दी अन्दर आने को कहा. हिंदी सेक्सी बीएफ ब्लू पिक्चर हिंदीविनोद इस मामले में मुझसे अधिक भाग्यशाली रहा है।तो उसने पूछा- क्यों?मैंने उसके चेहरे के भाव देखे और बात बनाई.

तो मैंने धक्के लगाने शुरू कर दिए।लगभग 7-8 मिनट के बाद वो दूसरी बार झड़ गई।मैंने अपनी रफ्तार बढ़ा दी और कुछ देर बाद वो फिर से अकड़ गई. दूध पिलाने वाली बीएफमुझे एक डिस्प्रिन की गोली ला कर देना।मैंने मन ही मन रात की घटना याद की और मुस्करा कर वहाँ से निकल गया।तो दोस्तो, यह थी मेरी कहानी.

?तो मैंने कहा- हाँ हैं…उसने कहा- मैं तुम्हें एक सरप्राइज़ देना चाहती हूँ। अपनी आँखें बन्द कर लो।तो मैंने अपनी आँखें बन्द कर लीं।उसने बाइक से नीचे उतर कर मेरे होंठों पर अपने होंठों को रख कर एक लंबी चुम्मी कर दी।मैं तो दंग रह गया कि ये उसने क्या कर दिया…??पर सच कहूँ यारों.बीएफ गांव की लड़की की: आप मेरे घर जाकर मदद कर दो।तो ताई जी ने ‘हाँ’ कर दी।मैं ताई जी को घर छोड़ आया।ताई जी बोलीं- बेटा अजय तेरी भाभी को भी ले आना।तो मैंने बोल दिया- मैं भाभी को पार्टी के समय तक ले आऊँगा.

मैंने देखा उससे कपड़ों और पैरों पर चाय गिर गई थी। मैंने उसे अपनी टी-शर्ट दी और बदलने के लिए कहा। वो कमरे में चली गई और थोड़ी देर बाद जब वो वापस आई… हाय.क्या रसीली चूत थी उसकी…मैं धीरे-धीरे उसकी चूत का स्वाद लिए जा रही थी और निशा भी अपने हाथ मेरे सिर पर दबा कर मजे ले रही थी।ऐसा करीब 20 मिनट तक चलता रहा।अब हम दोनों बहुत थक चुके थे।फ़िर मैंने निशा से कहा- यार तूने मु्झे आज बहुत मजे करवाए हैं, आज का दिन मैं कभी नहीं भूल सकती।कहानी जारी रहेगी।आपके विचारों का स्वागत है, मुझे मेल करें।.

तेरी तिजोरी का - बीएफ गांव की लड़की की

मैंने भी दरवाजे को बंद कर लिया, फिर आंटी ने साड़ी जैसे ही उतारनी चालू की, मैंने पूछा- ये आप क्यों कर रही हैं?तो उन्होंने बोला- ये भीग कर ख़राब हो जाएगी.जिसमें से मेरा पूरी तरह से तना हुआ लण्ड दिख रहा था।मामी ने मेरे लण्ड पर हाथ मार के कहा- इसको क्या हुआ?और वो अश्लील भाव से हँस दी।मैंने कहा- ये गुस्से से अकड़ गया है.

और खुद भी इतनी बेशरम जैसी तुम्हारे साथ नंगी खडी हूँ।मैंने दोनों बगलों के बाल साफ़ करके पानी से धोया और उस पर चुम्बन करने लगा।कहानी जारी रहेगी।भाभी- आआअह… फ़िर से मुझे मत गर्म करो प्लीज… एक बार मैंने गुनाह कर लिया है… आआ आह्ह्ह….बीएफ गांव की लड़की की मज़ा आता है।विकास अब रफ्तार से गाण्ड मारने लगा था क्योंकि अब उसके लौड़े का पानी निकलने ही वाला था। इस बार विकास ने कुछ सोचा और झट से लौड़ा गाण्ड से बाहर निकाल लिया और दीपाली के बाल पकड़ कर उसको नीचे झुका कर लौड़ा उसके मुँह में दे दिया।विकास- आह आह.

जिसे गाँव में बच्चा-बच्चा जानता था, ने ही ज्योति को कमरा दिलाया था।गोपाल इससे पहले कुंवारा था और सोचता था कि ज्योति को पटा कर चोद दे।सुबह से शाम तक ज्योति लड़कियों को सिलाई सिखाती।गोपाल एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ाता था और ज्योति को भी कभी-कभी पढ़ा दिया करता था।धीरे-धीरे गोपाल ने उसे पटा लिया।कुछ दिनों बाद गोपाल ने अपनी बात कही- ज्योति.

सेक्सी फिल्म देवर भाभी के?

बीएफ गांव की लड़की की इतने नजदीक बैठे थे कि हवा भी हमारे बीच से ना जा सके।हमने पैग खत्म किए और मानसी ने फिर से दो गिलास रेडवाइन के पैग बनाने को नौकरानी को कहा।हमने दूसरे पैग भी खत्म किए।मैं फिर मानसी को चूमने लगा.

ब्ल्यू फिल्म सेक्सी व्हिडीओ हिंदी?हिंदी बीएफ गाने के साथ

बीएफ गांव की लड़की की तो उसने पहले तो मना कर दिया।बोली- मैंने पहले कभी नहीं चूसा है।फिर मैंने उससे कहा- एक बार मेरी खातिर चूस कर तो देखो।चुदासी भाभी मान गई और हम 69 की अवस्था में आ गए।अब उसकी चूत पर मेरा मुँह और उसके मुँह में मेरा लण्ड था।हम दोनों ने एक-दूसरे के गुप्तांगों को बहुत ही मजे से चूसा।कुछ देर बाद वो झड़ गई.

ऐश्वर्या के बीएफ

अपने शॉर्ट्स के अन्दर अपनी ऊँगली डालो और महसूस करो कि तेरे बेटे का लंड है।मैम- तू क्या करेगा?मैं- मैं अपनी मम्मी को देख कर मूठ मारूँगा।मैम- मम्मी अपने बेटे को मूठ मारते देखना चाहती है.चाहो तो खुद देख लो।वो मेरा हाथ पकड़ कर अपनी गांड के छेद पर रखते हुए बोली- खुद ही अपनी ऊँगली डालकर देख लो.

बीएफ गांव की लड़की की चलो दोबारा कहानी पर आती हूँ।करीब आधा घंटा बाद वो उठकर रसोई में गया।दीपाली रोटियां बेल रही थी और अनुजा सब्जी बना रही थी।विकास वहीं दरवाजे पर खड़ा होकर वो नज़ारा देख रहा था।दीपाली जब बेलन से रोटी बेल रही थी उसकी गाण्ड आगे-पीछे हो रही थी.

खपाखप सेक्सी फिल्म

जंगल की सेक्सी बीपीपता नहीं क्यों यह देख कर मैंने उसे गले लगाया और घर चला आया।अगले तीन दिन मार्किट बन्द रहने वाला था ट्रांसपोर्टर्स की हड़ताल की वजह से… इस वजह से मुझे रात में ही गर्भ-निरोधक और कंडोम्स लेने शहर की दवा मंडी आना पड़ा।अगली सुबह मुझे रूम का जुगाड़ कर के साक्षी को लेने जाना था.

मैं झट से उनके पास गया और उनसे पूछा- आपने मुझे बुलाया?तो आंटी ने कहा- हाँ मैंने आपको ही बुलाया है।मैं- क्या बात है?आंटी- तुम मेरी तरफ क्या देखते रहते हो?मैं पहले थोड़ा डर गया.उसी समय मेरी और उसकी नज़र टकरा गईं और वो शर्मा कर अन्दर चली गई।तभी मैंने तय किया कि नैन्सी को जरूर चोदूँगा।एक दिन वो मेरे बेटे को अपनी गोद में लेकर उसके साथ खेल रही थी।तभी मेरी बीवी ने मुझसे बोला- अपने बेटे को पड़ोस में से ले आओ।मैं नैन्सी के हाथों में से अपने बेटे को ले रहा था.

सब्र का फल मीठा होता है।मैं उस रात बिल्कुल भी नहीं सो सका।अगले दिन कुछ भी नहीं हो सका। फिर 2-3 दिन मैं कभी उसकी चूची दबा देता तो कभी उसके चूतड़.

दर्द होता है अई काटो मत ना… दीदी आइ मज़ा आ रहा है।दोस्तो, अनुजा का प्लान तो अच्छा था मगर एक पॉइंट ऐसा था जिसके कारण दीपाली को थोड़ा शक हुआ कि कहीं अनुजा की जगह उसके ऊपर कोई आदमी तो नहीं है ना।ना ना.

मैं कन्ट्रोल नहीं कर पाई।मैंने उसे अपनी बाँहों में लेते हुए उसके गाल पर एक ज़ोरदार चुम्मी की।इसके बाद क्या हुआ अगले भाग में लिखूँगा. मेरा मूड खराब हो रहा था।मैंने दिमाग लगाया क्यों न इसे सर के टॉयलेट में ले जाकर चोदूँ।मैं उसे सर के जाने के बाद टॉयलेट में ले गया.

हिंदी में खुल्ला सेक्सी वीडियो मेरा बस चले तो तुमको सदा ऐसे ही रखूँ।फिर उसने मेरी पैन्टी के ऊपर से चूम लिया, बोला- मैं चुदाई से पहले पैन्टी-ब्रा को निकालता नहीं.

बिहारी की बीएफ

बीएफ गांव की लड़की की: थोड़ी देर बाद वो फिर से उस पुराने जोश के साथ मेरा साथ देने लगी।मैं समझ गया कि अब माल तैयार है।अब मैंने फिर उसकी टाँगों को फैलाया और उसकी चूत के सामने आ गया।उसकी चूत के दाने पर अपना लंड लगाया.!’वो झुकी और घुटनों पर बैठ गई और मेरा अंडरवियर उसने निकाल दिया।लंड जैसे कि कोई शेर पिंजरे से आज़ाद हो गया हो, तुरन्त ही उसने 3-4 प्री-कम की बूँदें उगलीं।‘कैसा है.