बीएफ होली

Image source,भाग्यलक्ष्मी ओपन

तस्वीर का शीर्षक ,

भाई बहन की सेक्सी नंगी: बीएफ होली, पर मुझे मज़ा आ रहा था सो मैंने उसे अन्दर माल लेने के लिए मना लिया और गरम-गरम माल उसकी चूत में छोड़ दिया।वो भी पूरी तरह से तृप्त हो गई थी और मैं भी।फिर उसने अगली बार जल्दी मिलने का वादा किया और कपड़े पहन कर चली गई।उसने कहा- मैं अपने घर जाकर सफ़ाई कर लूँगी। कहीं कोई आ न जाए !मेरा आज भी उसके साथ सम्बन्ध है, अब तक उसे कई बार चोद चुका हूँ।अगली मुलाकात के बारे में फिर बताऊँगा।आपको कहानी कैसी लगी बताना।.

पंजाबी सेक्स देसी

!उन्होंने उठ कर मेरे बाल भी खोल दिए। मैंने आज शिफौन की नेट वाली गुलाबी रंग की साड़ी पहनी थी, जो एकदम मेरे शरीर से चिपकी हुई थी।ससुर जी- तू बिना घूँघट और खुले बालों के अच्छी लग रही है बहू. एक अंडकोष का लटकनाअंकिता- हाय…अक्षय- हैलो…अंकिता- कैसे हो?अक्षय- मैं ठीक हूँ आप कैसे हो?अंकिता- मैं भी ठीक हूँ…फेसबुक पर बातों की कुछ ऐसी ही बातों से शुरुआत होती थी, मेरी और अक्षय की.

!’मैंने उसकी बुर की दरार में ऊँगली डाली तो बोली- क्या ऊँगली ही डालेंगे आप? इतना कह कर चुप हो गई।मैंने कहा- रुको डार्लिंग. सेक्सी व्हिडिओ मेंमैंने सोचा इतना पैसा वाला आदमी दीदी के घर में क्या कर रहा है !मुझे देखते ही दीदी बोली- नमस्कार भाई साहब, आप अचानक? कैसे आना हुआ? ओह, किराया लेने आए होंगे महीने पर.

उ…!रेहान ने जल्दी से लौड़ा गाण्ड से निकाला और जूही की चूत में पेल दिया।जूही- आइ आइ कितना चुदवा कर भी आ आपका लौड़ा तो चूत में आ.बीएफ होली: उमा चाची- हांह… मुझे अन्दर तक चोद… सन्जू… अहह… अपनी चाची को पूरी तरह से संतुष्ट कर दे… तुमहारे चाचा ने तुम्हारी चाची को कभी इतना मज़ा नहीं दिया है। ओह… हां… सन्जू….

अब उसकी सिससकारियाँ तेज़ हो रही थी और साथ ही मेरे धक्के भी, बीच बीच में मैं उसका लंड भी हिलाती रहती थी.क्योंकि मैं पकड़ा जा चुका था।फिर उसने मेरा लन्ड अपने मुँह में लेकर चुभलाया और उसे साफ किया। फिर मैंने उससे कहा- अपनी सहेली को भेजो.

हिंदी सेक्सी आवाज वाली - बीएफ होली

चूत की सारी गहराइयों को भिगोती हुई अन्दर चली गई।इस तरह मेरे लंड ने कोई 8-10 बार आग उगली और फिर मैं उसके बदन पर ढेर हो गया।‘तुम मेरे देवता हो.अब आती है बारी जीभ से जवानी का स्वाद लेने की तो नाज़िमा मेरी जान सुन अब लड़के नंगी हो चुकी लड़की की चूत को चाट के, उसकी तनी चूचियों को चूस के, उसके गर्म चूतड़ पे जीभ फिरा के, उसके रस भरे होंठो को ख़ाके, उसके पूरे जिस्म को चाट चाट के लड़की का अपनी पाँचवी इंद्रिय से भी भोग लगाते हैं…नाज़िमा- फिर क्या होता है?मैं- हाए मेरी कच्ची चूत, इतनी भी भोली मत बन… इसके बाद शुरू होती है चुदाई.

’‘अरे मादरचोद… आजकल सील बन्द लड़कियाँ तो बड़ी दुर्लभ बात हो गई है।निभा को साथ में चोदा जाए??’ मैं मुआयना लेते हुए पूछा।सुनील तो खिल पड़ा।‘देखो, वैसे तो मैं मिल-बाँट कर खाने वाला आदमी नहीं हूँ, पर तुमने इसकी सील पहले ही तोड़ दी है, इसलिए अब वो नियम इस पर लागू नहीं है।’तीनों ने चाय पी।‘सुन निभा… आज तुम्हें रंडी बनाएंगे.बीएफ होली क्या मैं आपके कुछ काम आ सकता हूँ?वो मेरे गले लग कर ज़ोर-ज़ोर से रोने लगी। मुझे तो मानो जन्नत मिल गई हो, मैं उसके आँसू पौंछने लगा, तो वो बिल्कुल पिंघल गई, बोलने लगी- तुम्हारे भैया कुछ करते ही नहीं.

Padosan Bhabhi ke Chutadon par Chumbanअन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार।मैंने अन्तर्वासना की सभी कहानियाँ पढ़ी हैं और मैं इसका नियमित पाठक हूँ।आज मैं आपको एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ। मुझे आशा है कि आपको पसंद आएगी।मेरा नाम रोहित है, हरियाणा का रहने वाला हूँ, उम्र 27 साल है।मेरे साथ वाले घर में एक भाभी रहती है.

फुल सेक्सी विडिओ?

बीएफ होली किसने भेजा या कहीं उसके पापा तो नहीं भेज रहे थे?वो अभी सोच ही रही थी कि टेलीफोन की घंटी बज गई। उसने दौड़ कर फोन उठाया, नेहा का फोन था।नेहा- अरे आज क्या हुआ.

हिंदी बॉलीवुड सेक्सी फिल्म?सेक्सी कहानी चूत चुदाई

बीएफ होली हो गए। इनका बॉस एक बहुत ही खूबसूरत 6 फुट का जवान था। उसकी उम्र करीब 26-27 ही होगी। मैं भी 28 की थी। सी.

ऑपरेशन से डिलीवरी कैसे होती है

बाद में मैंने सोचा कि ज़लील तो हर तरह से ही होना है पर सारी दुनिया के सामने होने से अच्छा है कि यहाँ मौजूद लोगों के लिए नंगी हो जाती हूँ.उसने मुझे अपने बाहुपाश में जकड़ कर जब मेरे चेहरे को चूम चूम कर गीला कर दिया तो मैं भी गर्म होने लगा, मेरे से रहा नहीं गया और मैं अपने दोनों हाथों से उसके उरोजों को दबाने लगा.

बीएफ होली मैंने बड़ी मुश्किल से अपने आप पर काबू कर उससे छुटने की कोशिश की, मैंने कहा- नहीं ई ई ई…ये एक कमजोर इन्कार था.

घोड़ा की सेक्सी फिल्म

नई हिंदी कहानीअब तू हर तरह से चुदने के लायक हो गई है।उनकी बात सुनकर मेरा डर निकल गया, मैं जब उठी तो मेरे पैरों में दर्द हुआ और चूत में भी अंगार सी जलन हो रही थी।मैंने हिम्मत करके खुद को उठाया और कमरे में थोड़ा चहलकदमी की, यह भी मुझे पापा ने ही बताया।दस मिनट में मेरा दर्द कम हो गया और मैंने चादर हटा कर बाथरूम में धुलने में रख दी, पापा और मैं एक साथ नहाए।पापा ने बड़े प्यार से मल कर मेरी चूत साफ की.

‘अच्छा, तो मैं यह सब नहीं करता!’ यह कह राजू ने अपना हाथ वापिस खींच लिया तो रीटा झट से ठुनक कर झूठे गुस्से से बोली- अरेऽऽऽ मैंने ऐसा तो नहीं कहा था.कोई बात नहीं … पता है मैं कितनी उतावली हो रही थी आपसे मिलने को?’‘हाँ हाँ… मैं जानता हूँ मेरी परी ! मैं भी तो तुमसे मिलने को कितना उतावला था !’‘हुंह… हटो परे.

ऐसा कुछ नहीं होगा तुम समय से उसको कमरे में ले जाना, बाकी मेरा काम है, बस मैं तुझे एक रण्डी की तरह दो लौड़ों से चुदते देखना चाहता हूँ.

इस चड्डी को उतार कर फ़ेंक दो और अपने माल को ले लो।इतना कहकर वो शरमा गई।मैंने उसकी पैंटी को उतारा तो उसकी बुर बिल्कुल गोरी.

उसकी ये बातें और सिसकारियाँ मेरे जोश को और बढ़ा रही थी और मैं उसकी चूचियो को और जोर से मसल रहा था, चूम रहा था. थोड़ी देर बाद जब पूजा सामान्य हुई तो मैंने फिर से अपना लंड पूजा की चूत में डाल दिया और धीरे-धीरे झटके लगाने लगा.

सेक्सी पिक्चर देखने का मैं आपका… ?मामी ने मेरे होंठों को अपने मुँह में लिया था… और थोड़ी देर के बाद बोली- मैं 38 की हूँ… तू 18 का… ये यूके है.

गर्दन के पीछे दर्द के कारण

बीएफ होली: करने दूसरे शहर चला गया। खैर अब मुझे पप्पुओं की क्या कमी थी?यह थी मेरी कहानी !ओह… एक बात तो मैं बताना ही भूल गई। मैंने बी.जीन्स में लंड काफ़ी तंग लग रहा था मानो मेरा लंड मुझसे कह रहा हो, यार समीर अंदर मेरा दम घुट रहा है प्लीज मुझे बाहर निकाल.